मोदी व शाह पर टिप्पणी को लेकर लोकसभा में हंगामा

भास्कर न्यूज/एजेंसी
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को ‘घुसपैठिया’ कहने पर भाजपा सदस्यों ने सोमवार को लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी से बयान वापस लेने की मांग की और यह मांग भी उठाई कि इस मामले में सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए।
उधर संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के नेता ही घुसपैठिए हैं। समझा जाता है कि उन्होंने यह बात परोक्ष रूप से कांग्रेस अध्यक्ष के संदर्भ में कही। इस पर चौधरी ने कहा कि उनकी बात को समझे बिना तिल का ताड़ बनाया जा रहा है तथा उनकी नेता को घुसपैठिया कहना उचित नहीं हैं। शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाने के बाद भाजपा नेताओं ने दोपहर 2.15 बजे कार्यवाही आरंभ होने पर फिर से चौधरी की टिप्पणी को लेकर हंगामा किया। संसदीय कार्य मंत्री जोशी ने कहा कि अधीर रंजन चौधरी को अपनी बात वापस लेनी चाहिए और माफी मांगनी चाहिए। इसके साथ ही सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भी माफी मांगनी चाहिए।
भाजपा सदस्यों निशिकांत दुबे और राजेंद्र अग्रवाल ने भी इस विषय को लेकर चौधरी और कांग्रेस पर निशाना साधा तथा माफी की मांग की। अग्रवाल ने कहा कि चौधरी की पार्टी की नेता खुद विदेशी मूल की हैं और उन्होंने 18 वर्ष तक देश की नागरिकता नहीं ली और वह भारतीय प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के बारे में इस तरह के बयान दे रहे हैं। पीठासीन अध्यक्ष रमा देवी ने कहा कि चौधरी को माफी मांगनी चाहिए। कुछ देर हंगामा रहने के बाद रमा देवी ने कार्यवाही को आगे बढ़ाया। शून्यकाल के दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद रिपीट प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को ‘घुसपैठिया’ कहा। मोदी जी केवल भाजपा के ही नेता नहीं हैं बल्कि देश के प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि चौधरी स्वयं पश्चिम बंगाल से आते हैं, जहां से हमारी सरकार घुसपैठियों को बाहर करने का काम कर रही है।
जोशी ने कहा कि देश की जनता ने नरेन्द्र मोदी को अभूतपूर्व जनादेश दिया है लेकिन कांग्रेस पार्टी चुनाव में हार को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। उन्हें (कांग्रेस को) जनादेश का आभास नहीं हो रहा है । उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी विश्व प्रसिद्ध नेता हैं और उनके मार्गदर्शन में अमित शाह ने जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे से संबंधित अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने का काम किया। उन्होंने कहा कि अधीर रंजन चौधरी को माफी मांगनी चाहिए। संसदीय कार्य मंत्री जोशी और उनके राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि चौधरी को अपना बयान वापस लेना चाहिए और बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए।